उत्तराखण्ड की हल्दी विभागीय उपेक्षा का भी दंश झेल रहे हैं

उत्तराखण्ड की हल्दी विभागीय उपेक्षा का भी दंश झेल रहे हैं

डॉ० हरीश चन्द्र अन्डोला

भारत हल्दी के प्रमुख उत्पादकों में से एक है, जो वैश्विक उत्पादन में 80% योगदान देता है। वर्ष 2018-19 में हल्दी का उत्पादन 389 हजार टन, क्षेत्रफल एवं उत्पादकता क्रमशः 246 हजार हेक्टेयर एवं 5646.34 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर था। समय-समय पर हल्दी के क्षेत्र, उत्पादन और उत्पादकता का विकास पैटर्न, बढ़ी हुई उपज में क्षेत्र के विस्तार पर उत्पादन के बढ़ते योगदान का संकेत देता है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में, भारत हल्दी का शुद्ध निर्यातक है और 2020 में 201,152 हजार अमेरिकी डॉलर कमाए।

संयुक्त राज्य अमेरिका भारतीय हल्दी का सबसे बड़ा उपभोक्ता है, कुल निर्यात मूल्य का 22 प्रतिशत आयात करता है, इसके बाद बांग्लादेश (18%), ईरान ( 6%), और पिछले वर्ष यूएई (5%)।कुछ अन्य आयातक देश मलेशिया, ब्रिटेन, मोरक्को, जर्मनी और जापान हैं। जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, सीओवीआईडी ​​​​-19 महामारी ने विशेष रूप से ताजा और सूखे दोनों रूपों में हल्दी की बिक्री में वृद्धि की है। इसके अलावा, हल्दी का उपयोग किराने के दैनिक उपयोग में आम सामग्रियों में से एक के रूप में किया जाता है, उदाहरण के लिए हल्दी गुड़ के रूप में।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी बिक्री सराहनीय रही है यानी पिछले वर्ष हल्दी का निर्यात मूल्य बढ़कर 20% हो गया, जबकि 2016-20 में 6% की वृद्धि हुई थी। इस अवसर का उपयोग कुछ नए इनोवेटिव उत्पादों और व्यंजनों को पेश करके किया जा सकता है। इस प्रकार, पूर्वोत्तर राज्यों को भी बड़े पैमाने पर लाभ हो सकता है जिसके बारे में हम नीचे संक्षेप में चर्चा करेंगे। उत्तर-पूर्वी राज्यों के लिए हल्दी की खेती और विपणन से समृद्ध होने का अवसर उत्तर-पूर्वी राज्य, विशेष रूप से मिजोरम और सिक्किम अपनी उच्च उपज के कारण हल्दी की खेती में असामान्य रूप से उच्च उत्पादकता वाले राज्यों के रूप में पहचाने जाते हैं। साथ ही, उन्हें जैविक उत्पादन के लिए पहचान का भी लाभ मिलता है।

इसके अलावा, राष्ट्रीय सतत कृषि मिशन (एनएमएसए) के तहत, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय ने इनपुट से शुरू होने वाली मूल्य श्रृंखला के विकास का समर्थन करने के लिए केंद्रीय क्षेत्र योजना, उत्तर पूर्व क्षेत्र के लिए मिशन जैविक मूल्य श्रृंखला विकास (एमओवीसीडी-एनईआर) शुरू की है। उत्पाद के एकत्रीकरण और प्रसंस्करण के लिए सुविधाओं के निर्माण के लिए आपूर्ति, प्रमाणन। मणिपुर में MOVCD-NER के तहत 33 क्लस्टर संचालित हैं, साथ ही असम और सिक्किम में FPO (किसान उत्पादक संगठन) का भौगोलिक कवरेज बेहतर है। अन्य उत्तर-पूर्वी राज्यों में ऐसी प्रथाओं को बढ़ावा देकर, वे निकट भविष्य में इस विशिष्ट बाजार का फायदा उठा सकते हैं।

केंद्र प्रायोजित योजना पीएमएफएमई (पीएम फॉर्मलाइजेशन ऑफ माइक्रो फूड प्रोसेसिंग एंटरप्राइजेज स्कीम) के तहत एक और महत्वपूर्ण नीतिगत कदम यानी “एक जिला एक उत्पाद”, हल्दी को सभी उत्तर-पूर्वी राज्यों में चयनित उत्पाद में सूचीबद्ध किया गया है, यह एक अतिरिक्त दायरा है जिसके तहत राज्यों को एफपीओ, एसएचजी (स्वयं सहायता समूह) और उत्पादक सहकारी समितियों जैसे क्लस्टर दृष्टिकोण और समूह दृष्टिकोण अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है। इससे किसानों और सूक्ष्म उद्यमों दोनों के लिए लाभ की स्थिति लाने में मदद मिलेगी। इसके अलावा, असम को छोड़कर, औपचारिक/संगठित खाद्य प्रसंस्करण इकाइयों का प्रसार कम है, पारंपरिक ज्ञान से मूल्यवर्धित उत्पाद विकसित करने के लिए नवाचार केंद्र को प्रोत्साहित किया जा सकता है ताकि लंबे समय में उत्पाद को आसानी से बढ़ाया जा सके।

भारत विश्व में हल्दी का सबसे बड़ा उत्पादक, उपभोक्ता और निर्यातक देश है। वर्ष 2022-23 में 11.61 लाख टन का उत्पादन भारत में हुआ था। यह वैश्विक उत्पादन का 75 प्रतिशत से अधिक है। भारत में 3.24 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में हल्दी की 30 से अधिक किस्में उगाई जाती हैं।देश के 20 से अधिक राज्यों में हल्दी की खेती होती है। सबसे ज्यादा उत्पादन महाराष्ट्र, तेलंगाना, कर्नाटक एवं तमिलनाडु में होता है। हल्दी के विश्व व्यापार में भारत की हिस्सेदारी 62 प्रतिशत है। 2022-23 के दौरान 380 से अधिक निर्यातकों द्वारा 200.74 अरब डालर मूल्य के 1.534 लाख टन हल्दी और हल्दी उत्पादों का निर्यात किया गया था। भारतीय हल्दी के लिए प्रमुख बाजार बांग्लादेश, संयुक्त अरब अमीरात, अमेरिका और
मलेशिया हैं।

केंद्र सरकार का मानना है कि स्वास्थ्य के लिहाज से हल्दी के प्रति अभिरुचि दुनिया भर के देशों में बढ़ रही है। ऐसे में बोर्ड के माध्यम से हल्दी के नए उत्पादों में अनुसंधान, विकास एवं वृद्धि को बढ़ावा दिया जाएगा। मूल्य-वर्धित हल्दी उत्पादों के लिए पारंपरिक ज्ञान को भी विकसित किया जाएगा।  पर्वतीय क्षेत्रों में किसानों का कोई सुधलेवा नहीं है। मौसम व आपदा की मार झेल रहे धरतीपुत्र विभागीय उपेक्षा का भी दंश झेल रहे हैं। हल्दी व अदरक की बुआई का समय होने के बावजूद किसानों को बीज उपलब्ध नहीं कराया जा सका है।

पंचायत प्रतिनिधियों व व्यापारियों ने किसानों को समय रहते बीज उपलब्ध कराए जाने की मांग उठाई है।पहाड़ के किसान लंबे समय से लगातार नुकसान का सामना करने को मजबूर हैं। कभी बेमौसमी बारिश, ओलावृष्टि नुकसान पहुंचा रही है तो जंगली जानवर उपज को बर्बाद कर दे रहे हैं। वहीं अब विभागीय उपेक्षा भी किसानों पर भारी पड़ने लगी है। गांवों में अप्रैल के अंतिम सप्ताह तक हल्दी व अदरक की बुआई का समय होता है पर अब तक बीज उपलब्ध नहीं कराया जा सका है। जिस कारण बुआई नहीं हो सकी हैं।लगातार गुहार लगाए जाने के बावजूद कोई सुधलेवा नहीं है।

व्यापारी नेता के अनुसार बेतालघाट व ताड़ीखेत ब्लॉक के किसानों को मांग के बावजूद बीज उपलब्ध न कराया जाना निंदनीय है‌। उत्तराखंड के कई इलाकों में ऐसी हल्दी की भी खेती हो रही है, जो गुणवत्ता में देश के प्रमुख हल्दी उत्पादक क्षेत्रों को भी पीछे छोड देती है। लेकिन जानकारी के अभाव में किसान इसे सामान्य हल्दी की तरह बो और बेच रहे हैं।

सामान्यतः जनसाधारण हल्दी लगाते समय हल्दी की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं देता बल्कि बाजार से कोई भी हल्दी को खरीद लेता है। लेकिन अधिक गुणवत्ता वाली हल्दी का सेवन से मानव शरीर पर ज्यादा अच्छे प्रभाव डालता है। हल्दी का उत्पादन आने वाले समय में बेहतर स्वरोजगार का विकल्प बन सकता है। इसके पौधे को वन्यजीव कोई नुकसान नहीं पहुंचाते। यदि हल्दी को सरकार की ओर से प्रमोट किया जाए तो यह एक बड़ी इंडस्ट्री के रूप में विकसित हो  सकती है  समय के साथ, हल्दी की लोकप्रियता भारत से बाहर भी फैल गई। इसे व्यापार मार्गों के माध्यम से दक्षिण पूर्व एशिया, चीन और मध्य पूर्व में लाया गया, जो विभिन्न क्षेत्रीय व्यंजनों में एक आवश्यक मसाला बन गया।

हल्दी ने मध्ययुगीन काल के दौरान यूरोप में अपना रास्ता बनाया, जहां इसका उपयोग मुख्य रूप से रंग भरने वाले एजेंट और औषधीय जड़ी बूटी के रूप में किया जाता था। इसके चमकीले रंग के कारण इसे ‘भारतीय केसर’  के नाम से जाना जाता था। 20वीं और 21वीं सदी में आधुनिक वैज्ञानिक शोध ने हल्दी के कई स्वास्थ्य लाभों की पुष्टि की है। हल्दी में पाया जाने वाला एक यौगिक करक्यूमिन, इसके सूजनरोधी, एंटीऑक्सीडेंट और चिकित्सीय गुणों के लिए बड़े पैमाने पर अध्ययन किया गया है। भारत दुनिया में हल्दी का सबसे बड़ा उत्पादक और निर्यातक है। हल्दी की खेती आज दुनिया के कई हिस्सों में की जाती है।

वैश्विक व्यंजन: हल्दी की लोकप्रियता विश्व स्तर पर बढ़ी है, और अब इसका उपयोग एशियाई से लेकर मध्य पूर्वी से लेकर पश्चिमी व्यंजनों तक, कई अंतरराष्ट्रीय व्यंजनों में किया जाता है। हल्दी की खुराक और करक्यूमिन युक्त उत्पादों ने अपने संभावित लाभों के कारण स्वास्थ्य पूरक के रूप में लोकप्रियता हासिल की है, खासकर सूजन और कुछ पुरानी स्थितियों के प्रबंधन में। हल्दी के पाक और औषधीय उपयोग के लंबे इतिहास ने, इसके सांस्कृतिक और पारंपरिक महत्व के साथ, एक मूल्यवान और पोषित मसाले के रूप में अपनी जगह पक्की कर ली है।इसके स्वास्थ्य लाभों और रसोई में बहुमुखी उपयोग ने इसे दुनिया के कई हिस्सों में प्रमुख बना दिया है।

हल्दी के यूरोपीय खरीदारों के लिए गुणवत्ता महत्वपूर्ण है, एक खरीदार ने टिप्पणी की है कि “गुणवत्ता हमारे लिए मुख्य फोकस है “। हल्दी के खरीदारों के लिए गुणवत्ता की मुख्य आवश्यकता इसकी कर्क्यूमिन सामग्री और एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि के स्तर से संबंधित है। यूरोपीय खरीदार उच्च स्तर की करक्यूमिन सामग्री वाली हल्दी की तलाश करते हैं क्योंकि यह हल्दी की सूजन-रोधी गतिविधि से जुड़ी है, जो प्राकृतिक स्वास्थ्य उत्पादों को तैयार करते समय महत्वपूर्ण है। औसतन, जड़ों में लगभग 3% करक्यूमिन होता है। हल्दी के एक खरीदार ने टिप्पणी की कि 4% या अधिक कर्क्यूमिन सामग्री वाली हल्दी प्राप्त करना संभव है, लेकिन इन उत्पादों को प्राप्त करना मुश्किल है। हल्दी में करक्यूमिन का प्रतिशत भौगोलिक स्थिति, जलवायु और इसकी कटाई और/या खेती की जाने वाली बढ़ती परिस्थितियों के आधार पर व्यापक रूप से भिन्न होता है, यहां तक ​​कि एक देश के भीतर भी।

प्रसंस्करण करक्यूमिन के प्रतिशत को भी प्रभावित करता है। बागेश्वर के जारती गांव का एक परिवार पिछले नौ साल से 3/3.bn हल्दी की खेती कर सरकार और विभाग विपणन की सुविधा उपलब्ध नहीं करा रहे हैं। वह निजी प्रयासों से स्थानीय बाजारों के साथ ही हल्द्वानी में हल्दी बेच रहे हैं।

( लेखक वर्तमान में दून विश्वविद्यालय कार्यरत हैं )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *