चुनौतियों के बीच सुगम चारधाम यात्रा

चुनौतियों के बीच सुगम चारधाम यात्रा

डॉ. हरीश चन्द्र अन्डोला

भारत में चारधाम यात्रा हिंदुओं के लिए एक पवित्र तीर्थयात्रा है, जिसमें हिमालय में चार पवित्र तीर्थस्थलों की यात्रा की जाती है।

उत्तराखंड में चार धाम यात्रा एक पवित्र तीर्थयात्रा है जिसमें यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ के चार पवित्र मंदिरों के दर्शन शामिल हैं। क्षेत्र के ऊबड़-खाबड़ इलाके और अप्रत्याशित मौसम की स्थिति के कारण यह यात्रा आध्यात्मिक रूप से फायदेमंद और शारीरिक रूप से चुनौतीपूर्ण मानी जाती है। हालाँकि, उचित योजना, शारीरिक फिटनेस और सुरक्षा दिशानिर्देशों के पालन से यात्रा की चुनौतियों को दूर किया जा सकता है।

तीर्थयात्रियों के सामने आने वाली मुख्य चुनौतियों में से एक खड़ी और असमान ट्रैकिंग पथ है जो मंदिरों तक जाती है, लेकिन उचित प्रशिक्षण और तैयारी के साथ, इन बाधाओं को सुरक्षित रूप से पार किया जा सकता है। एक और चुनौती भारी बारिश और बर्फबारी सहित कठोर मौसम है, जो यात्रा योजनाओं को बाधित कर सकता है और ट्रेकर्स के लिए जोखिम पैदा कर सकता है। तीर्थयात्री मौसम के पूर्वानुमानों पर कड़ी नज़र रखकर और यात्रा के दौरान आवश्यक सावधानी बरतकर इस जोखिम को कम कर सकते हैं। ऊंचाई की बीमारी के बारे में जागरूक रहना महत्वपूर्ण है, क्योंकि मंदिर उच्च ऊंचाई पर स्थित हैं, और सुरक्षित यात्रा के लिए अनुकूलन महत्वपूर्ण है।

अंत में, दूरदराज के इलाकों में भोजन, पानी और आवास जैसी बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था करना एक चुनौती हो सकती है, लेकिन पूर्व नियोजित यात्रा पैकेज चुनकर या स्थानीय अधिकारियों से सहायता मांगकर इसे संबोधित किया जा सकता है। कुल मिलाकर, जबकि चार धाम यात्रा अपनी तरह की चुनौतियाँ पेश करती है, हालाँकि, हाल के वर्षों में, तीर्थयात्रियों के लिए यात्रा विभिन्न असुविधाओं और सुरक्षा चिंताओं से प्रभावित रही है। इसने वर्तमान सरकार को यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कदम उठाने के लिए प्रेरित किया है।यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ के तीर्थस्थल हर साल हजारों भक्तों को आकर्षित करते हैं, जिससे तीर्थयात्रियों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करना आवश्यक हो जाता है। सरकार ने तीर्थयात्रा मार्ग पर पुलिस की उपस्थिति, आपातकालीन प्रतिक्रिया दल और चिकित्सा सुविधाओं सहित विभिन्न सुरक्षा व्यवस्थाएं शुरू की हैं। इसके अतिरिक्त, सरकार ने यात्रियों के लिए यात्रा को अधिक सुलभ और सुरक्षित बनाने के लिए सड़कों और पुलों जैसे बुनियादी ढांचे में भी सुधार किया है।

इन पहलों का उद्देश्य न केवल तीर्थयात्रियों के अनुभव को बढ़ाना है, बल्कि पर्यटन और चारधाम यात्रा के धार्मिक महत्व को भी बढ़ावा देना है। तीर्थयात्रियों की चिंताओं को दूर करना और उन्हें इन पवित्र स्थलों तक सुरक्षित और आरामदायक यात्रा प्रदान करना महत्वपूर्ण है। सरकार के प्रयासों से, ने तीर्थयात्रियों के लिए महत्वपूर्ण चुनौतियां पेश की हैं। अच्छी तरह से बनाए रखी गई सड़कों, आरामदायक आवास यह आशा की जाती है कि चारधाम यात्रा इस पवित्र यात्रा पर जाने वाले सभी तीर्थयात्रियों के लिए आध्यात्मिक रूप से समृद्ध अनुभव बनी रहेगी।चारधाम यात्रा में शासन-प्रशासन की असफलता का मुख्य कारण और सरकार के लिऐ समाधान का रास्ता चारधाम यात्रा की व्यवस्था के प्रबंधन में सरकार की विफलता के कई कारण हो सकते हैं। सबसे पहले, अपर्याप्त बुनियादी ढांचे और सुविधाओं और स्वच्छ स्वच्छता सुविधाओं की कमी के कारण भक्तों के लिए कठिनाइयाँ और असुविधाएँ पैदा हुई हैं।

दूसरे, खराब भीड़ प्रबंधन ने भी सरकार की विफलता में योगदान दिया है। पवित्र स्थलों पर आने वाले तीर्थयात्रियों की भारी संख्या के कारण अराजक स्थिति, भीड़भाड़ और सुरक्षा संबंधी चिंताएँ पैदा हो गई हैं। इससे न केवल तीर्थयात्रियों के समग्र अनुभव पर असर पड़ा है बल्कि उनकी सुरक्षा भी खतरे में पड़ गई है। इसके अलावा, यात्रा के प्रबंधन के लिए धन और संसाधनों के अपर्याप्त आवंटन ने प्रभावी योजना और कार्यान्वयन में बाधा उत्पन्न की है। अपर्याप्त जनशक्ति, सीमित चिकित्सा सुविधाएं और अपर्याप्त परिवहन विकल्पों ने सरकार के सामने चुनौतियों को और बढ़ा दिया है।

चिंताओं के अलावा, रिपोर्ट्स में इस साल की चार धाम यात्रा के लिए 2023 की तुलना में पर्यटकों की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि का संकेत दिया गया है। 24 मई तक के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, 10 मई से अब तक 9.67 लाख तीर्थयात्री तीर्थ स्थलों पर जा चुके हैं, जिनमें केदारनाथ में सबसे अधिक 4.24 लाख पर्यटक आए हैं। हालांकि, पर्यटकों की यह वृद्धि एक गंभीर खतरे के साथ आई है।

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, अब तक यात्रा के दौरान लगभग 60 तीर्थयात्री, जिनमें से अधिकांश 60 वर्ष से अधिक आयु के थे, हृदयाघात से मर चुके हैं। केदारनाथ फिर से 28 मौतों के साथ इस दुखद सूची में सबसे ऊपर है। हालांकि यह 2023 की एक दिन की आपदा की तुलना में कम है, जब केदारनाथ में भारी बर्फबारी के कारण 23 मौतें हुई थीं, लेकिन कुल मिलाकर मौतों में वृद्धि चिंता का विषय है।

एक सर्वे में उत्तराखंड में कुल 7688.16 किमी लंबी सड़कों पर क्रैश बैरियर अथवा पैराफिट लगाने की आवश्यकता महसूस की गई। इसके सापेक्ष प्रदेश में अब तक 3666.77 किमी लंबी सड़कों पर क्रैश बैरियर लगाए जा चुके हैं, जबकि 4021.39 किमी लंबी सड़क पर क्रैश बैरियर लगाए जाने शेष हैं। इनमें भी सबसे अधिक 3720.04 किमी हिस्सा लोक निर्माण विभाग के अंतर्गत आता है। वैसे भी चारधाम की यह यात्रा पूरी तरह से मौसम के मिजाज पर निर्भर है। कब मौसम बिगड़ जाए या कब बारिश आ जाए, कुछ कहा नहीं जा सकता है। पिछले साल की तरह ही इस बार भी ऑलवेदर रोड भी यात्रा में निश्चित तौर पर परेशानी की सबब बनने वाला है। कई स्थानों पर या तो निर्माण पूरा नहीं हुआ है या फिर पहाड़ से बड़े-बड़े बोल्डर सड़क पर आने की समस्या अभी से ही सामने आ रही है। ऑलवेदर रोड को लेकर दावे तो बड़े-बड़े किए जा रहे हैं, लेकिन हकीकत इस रोड पर यात्रा करने पर सामने आ ही जाती है।

(लेखक दून विश्वविद्यालय में कार्यरत हैं)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *