श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने श्री बदरीनाथ धाम में लिया यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा

श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने श्री बदरीनाथ धाम में लिया यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा

श्री बदरीनाथ धाम/लोक संस्कृति

श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति( बीकेटीसी) अध्यक्ष अजेंद्र अजय ने आज श्री बदरीनाथ धाम में यात्रा व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
तथा अधिकारियों- कर्मचारियों को पूर्ण मनोयोग से कार्य करने के भी निर्देश दिए। बीकेटीसी अध्यक्ष श्री केदारनाथ धाम से आज श्री बदरीनाथ धाम पहुंचे।

बदरीनाथ पहुंचने के बाद उन्होने भगवान बदरीविशाल के दर्शन किये तत्पश्चात अधिकारियों की बैठक ली। बताया कि मंगलवार तक 1537740( पंद्रह लाख सैंतीस हजार सात सौ चालीस) तीर्थयात्री भगवान बदरीविशाल के दर्शन को पहुंच गये है। देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा तथा प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के मार्गदर्शन में सामूहिक प्रयासों से चारधाम यात्रा का सफल संचालन हो रहा है‌‌।
बैठक के बाद उन्होंने संत कुटीर तक मातामूर्ति मंदिर मार्ग स्थिति दर्शन पंक्ति का निरीक्षण किया। तीर्थयात्रियों से उनकी समस्यायें सुनी तथा सुझाव भी मांगे।

  • दर्शन पंक्ति मार्ग पर साफ- सफाई व्यवस्थाएं अधिक दुरस्त करने के निर्देश दिए।
  • वीआईपी काउंटर में हैली तथा प्रोटोकॉल द्वारा आनेवाले तीर्थयात्रियों का विवरण जाना।
  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा श्री बदरीनाथ मंदिर सिंह द्वार पर किये जा रहे मरम्मत कार्यों का भी अवलोकन किया।
  • बीकेटीसी अध्यक्ष ने श्री बदरीनाथ मंदिर परिसर, मंदिर गर्भ गृह में दर्शन व्यवस्था को करीब से देखा निर्देश दिये कि किसी भी यात्री को दर्शनों में परेशानी न हो ऐसी व्यवस्था सुनिश्चित रहे तथा “अतिथि देवो भव:” की भावना बनी रहे।
  • बीकेटीसी अध्यक्ष ने मंदिर तोषाखाना( भंडार गृह) के स्टाक रजिस्टर की भी पड़ताल की तो पूजा काउंटर का भी निरीक्षण किया।
  • इसके पश्चात उन्होंने मंदिर समिति कार्यालय तथा खजाना कक्ष का भी निरीक्षण किया।
  • उन्होंने सभी अधिकारियों कर्मचारियों को पूर्ण मनोयोग से कार्य करने की ताकीद की।

इस दौरान बीकेटीसी उपाध्यक्ष किशोर पंवार, प्रभारी अधिकारी अनिल ध्यानी, मंदिर अधिकारी राजेंद्र चौहान, अजीत भंडारी आदि भी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *